What is KYC: Full Form of KYC, केवाईसी फुल फॉर्म

Full Form of KYC जानने से पहले हम आपको बता दे की KYC की शुरुआत 1990 के दशक में हुई थी। उस समय मनी लॉन्ड्रिंग की घटनाएं बहुत ही तेज गति से आगे बढ़ रही थीं। जिसको रोकने के लिए Know Your Customer यानी केवाईसी नियम को लागू किया गया। लेकिन 2001 में 9/11 हमलों के बाद KYC नियम को सभी के लिए अधिक कड़ाई से लागू कर दिया गया। वर्तमान समय में, लगभग सभी देशों में KYC नियम लागू है। और भारत में KYC का उपयोग सबसे पहले 2002 में RBI के द्वारा जारी किये गए गाइडलाइंस के बाद लागू किया था।

जिसके कारण आज के समय में लगभग सभी प्रकार के काम बैंकिंग, बीमा, फाइनेंस, इन्सुरांस, तथा किसी भी तरह की ग्राहकों की जानकारी को एकत्रित करने के लिए हर कंपनियों और बैंको के द्वारा ग्राहक की KYC प्रक्रिया सबसे पहले पूरा किया जाता हैं। जिसके मदद से बैंक और बड़ी – बड़ी कंपनियाँ अपने ग्राहकों की सम्पूर्ण जानकारी को वेरीफाई करते हैं।

आपको हमें बता दे की KYC का Full Form In English – Know Your Customer होता हैं। यह एक प्रक्रिया होती हैं। जिसके द्वारा बैंक, वित्तीय संस्थान और अन्य सेवा प्रदाता अपने ग्राहकों की पहचान को सत्यापित करते हैं। इस प्रक्रिया के तहत ग्राहक से उनके नाम और एड्रेस के साथ पहचान प्रमाण पत्र जैसे – आधार कार्ड, पैन कार्ड, ड्राइविंग लाइसेंस आदि सरकारी डॉक्यूमेंट मांगे जाते हैं। KYC ग्राहक की पहचान की पुष्टि के लिए एक महत्वपूर्ण कदम हैं। जिससे वित्तीय धोखाधड़ी जैसी गतिविधियों को रोकने में मदद मिलती हैं।

FULL FORM OF KYC in English “Know Your Customer” और Hindi में “ग्राहक को जानिए” फुल फॉर्म होता हैं। यह एक प्रक्रिया होती हैं। जिसके द्वारा वित्तीय संस्थान और अन्य सेवा प्रदाता अपने ग्राहकों की पहचान की सत्यता को सुनिश्चित करते हैं। KYC धोखाधड़ी और मनी लॉन्ड्रिंग जैसी गतिविधियों को रोकने के लिए महत्वपूर्ण हैं।

Full Form Of KYC – Overview

KYC EnglishKnow Your Customer
KYC Hindiग्राहक को जानिए
KYC Founded1990 since
KYC started in India2002
KYC DocumentAadhar Card
Voter ID Card
Passport
Driving Licence
Pan Card
And Othe Government Documents
Full Form of KYC । kyc full form in Hindi
Full Form of KYC । kyc full form in Hindi

What is KYC – KYC क्या है?

KYC एक ग्राहकों की पहचान को सत्यापन करने की प्रक्रिया हैं। जिसमें ग्राहक से उनके पहचान और पते का सत्यापन करने के लिए दस्तावेज़ मांगे जाते हैं। ये दस्तावेज़ आमतौर पर पासपोर्ट, ड्राइविंग लाइसेंस, आधार कार्ड, पैन कार्ड, वोटर ID तथा अन्य सरकार द्वारा जारी पहचान पत्र होते हैं। जिसे देकर आप अपना पहचान सत्यापन बैंक या वित्तीय संस्थानों में करा सकते हैं।

इसे भी पढ़े:

Full Form KYC in Bank । बैंक में KYC क्यों जरूरी है?

हम आपको बता दे की बैंक तथा किसी भी अन्य वित्तीय संस्थानों के लिए भी Full Form of KYC “Know Your Customer” ही होता हैं। जिसको हिंदी में “अपने ग्राहक को जानिए” कहते हैं। तथा यदि आप सोच रहे हैं। की आखिर बैंकों में KYC कराना क्यों जरुरी हैं” तो इसके निम्न कारण हैं:-

बैंकों में KYC इसलिए जरूरी हैं क्योंकि:

  1. Bnak KYC धोखाधड़ी और गलत तरीके से पैसे लेन-देन को होने से रोकता हैं।
  2. यह आतंकवादी गतिविधियों को वित्तीय सहायता देने से रोकता हैं।
  3. यह ग्राहक की पहचान की सत्यता सुनिश्चित करके बैंक को सुरक्षा रखता हैं।
  4. कानून के तहत और RBI के गाइडलाइंस के अनुसार सभी बैंकों को अपने सभी ग्राहकों से KYC करवाना अनिवार्य हैं।

*घर बैठे पैसे कमाने का Best तरीका*

Bank K Y C से लाभ

बैंक KYC से निम्न लाभ हैं:

  1. बैंकों के पास अपने ग्राहक की सही पहचान मौजूद रहती हैं।
  2. Bank KYC कराने से ग्राहक किसी भी प्रकार की धोखाधड़ी के शिकार होने से सुरक्षा हो जाते हैं।
  3. बैंकों के द्वारा आतंकवादियों को फंडिंग की रोकथाम किया जाता हैं।
  4. बैंक K Y C से बैंकों पर ग्राहकों का और ग्राहकों पर बैंकों का विश्वास अधिक मजबूत होता हैं।

KYC Full Form in Hindi

यदि आप जानना चाहते हैं। की kyc full form in hindi यानी हिंदी में हम KYC को क्या कहते हैं। तो हम आपको बता दे की हिंदी में KYC को “ग्राहक को जानिए” कहा जाता हैं। यानी जब बैंक और वित्तीय संस्थान अपने ग्राहकों की केवाईसी करती हैं। तो यह प्रक्रिया ग्राहकों के बारे में जानने के लिए किया जाता हैं। क्योकि KYC के मदद से ही कोई बैंक या वित्तीय संस्थान अपने ग्राहकों की पहचान का सही सत्यापन कर सकते हैं।

Max Life Insurance KYC – बीमा कंपनियों में KYC

बड़े – बड़े बीमा कंपनियां भी अपने ग्राहकों से KYC करवाती हैं। जिसे वह अपने ग्राहकों की पहचान का सत्यापन कर सकें। आज के समय में लगभग सभी बीमा कंपनी तथा वित्तीय संस्थानों के द्वारा अपने ग्राहकों के पहचान की पुष्टि करने के लिए KYC करना सभी के लिए अनिवार्य कर दिया गया हैं। जैसे की Life Max Insurance Company में ग्राहकों के KYC की प्रक्रिया इस प्रकार है:

  • सबसे पहले ग्राहक के आधार कार्ड या पैन कार्ड को सत्यापित किया जाता हैं।
  • और ग्राहक की एड्रेस का सत्यापन के लिए बिजली बिल/गैस/टेलीफोन बिल या कोई सरकारी डॉक्यूमेंट जिसमे ग्राहक का एड्रेस दिया गया हो उससे किया जाता हैं।
  • उसके बाद ग्राहक का बैंक खाता को सत्यापित किया जाता हैं।

आप Max Life Insurance कंपनी में अपनी KYC सत्यापन करवाने के लिए आधार कार्ड, पैन कार्ड, वोटर आईडी कार्ड, बिल बिल, टेलीफोन बिल, ड्राइविंग लाइसेंस तथा अन्य सरकारी डॉक्यूमेंट के मदद से अपनी पहचान का सत्यापन करवा सकते हैं।

what is kyc, full form kyc
what is kyc, full form kyc

KYC क्यों जरूरी है?

आपको हम बता दे कि KYC इसलिए जरूरी हैं। क्योकि KYC के जरिये ही धोखाधड़ी और ग़लत कारोबारो, आतंकवादी गतिविधियों को रोका जाता हैं। तथा KYC ग्राहकों और कंपनी दोनों की सुरक्षा करता हैं। इसलिए आज के समय में भारत में सभी लोगो के लिए KYC को कराना अनिवार्य कर दिया गया हैं। अगर आप अपने बैंक में KYC नहीं करवाते हैं। तो आप अपने बैंक खाते से बिना KYC प्रक्रिया कम्पलीट किया लेने – देन नहीं कर सकते हैं।

KYC में कौन से दस्तावेज़ चाहिए?

बैंकों और वित्तीय संस्थानों में KYC के लिए आमतौर पर आपके पास ये दस्तावेज़ होना चाहिए” जो इस प्रकार से हैं:

  1. आधार कार्ड
  2. पैन कार्ड
  3. वोटर ID
  4. पासपोर्ट साइज फोटो
  5. पासपोर्ट
  6. ड्राइविंग लाइसेंस
  7. बैंक स्टेटमेंट/पासबुक
  8. बिजली
  9. गैस बिल
  10. टेलीफोन बिल

निष्कर्ष: आज के इस पोस्ट में हमने जाना की KYC Full Form in Hindi & English, KYC की शुरुआत कैसे हुई, भारत में केवाईसी कब से लागू किया गया, केवाईसी करना क्यों जरुरी हैं। आदि के बारे में हमने इस पोस्ट में पढ़ा और जाना” यदि आपको हमारे द्वारा दिए गए जानकारी सही लगा तो हमें कमेंट करके जरुर बताये। या कोई जानकारी गलत हो तो आप हमें बता सकते हैं। हम उसको सुधार कर देंगे। “धन्यवाद” Post writer By – Akash Gupta

Full Form KYC

यदि आप यह जानना चाहते हैं। की आखिर KYC का Full Form क्या होता हैं। जो आज के समय में सभी को अपने बैंकों, Insurance कंपनियों में कराने की जरुरत पड़ रही हैं। तो हम आपको बता दे की Full Form of KYC in English “Know Your Customer” होता हैं। जिसका मतलब होता हैं। की आप अपने ग्राहकों को जानिए

kyc full form in Hindi

केवाईसी फुल फॉर्म इन हिंदी का मतलब होता हैं। kyc full form in Hindi “ग्राहक को जानिए” होता हैं।

Facebook PageFollow Now
InstragramFollow Now
5/5 - (2 votes)

Leave a Comment